free hits
Track My Website
मुण्डा आन्दोलन

मुण्डा विद्रोह या 'बिरसा विद्रोह' का प्रारम्भ ब्रिटिश भारत में 1895 में हुआ। यह विद्रोह छोटा नागपुर में एक 21 वर्षीय युवक बिरसा मुंडा ने प्रारम्भ किया था, जिससे ब्रिटिश सरकार थर्रा उठी। बिरसा के साथी थे- गया मुण्डा, देयका मुण्डा, पनाई मुण्डा, सुन्दर मुण्डा, तिबु मुण्डा, जोहन मुण्डा, दुखन स्वांसी, हतिराव मुण्डा तथा रिसा मुण्डा आदि। ये लोग 1895 से 1900 तक छोटा नागपुर में अंग्रेज़ों की प्रभुता को सदैव चुनौती देते रहे। यह विद्रोह बाद में 'बिरसा विद्रोह' के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इस आन्दोलन कें मुख्य केन्द्र खूंटी था। विद्रोह मुख्य रूप से 'बिरसा मुण्डा' के नेतृत्व में 'मुण्डा' आदिवासियों के द्वारा किया गया था। परंपरागत रूप से प्रचलित सामूहिक कृषि पर जागीरदारों, ठेकेदारों, बनियों, सूदखोरों के शोषण के कारण ही यह विद्रोह फूटा। बिरसा मुण्डा ने 'उलगुलान' की उपाधि धारण कर स्वयं को भगवान का दूत घोषित कर दिया। 1899 ई. में बिरसा ने क्रिसमस की पूर्व संध्या पर मुण्डा जाति का शासन स्थापित करने के लिए विद्रोह की घोषणा की थी

JSSC उत्पाद निरीक्षक प्रतियोगिता (प्रा.) परीक्षा 18.10.2015

*1. उत्तर से दक्षिण में झारखण्ड के जिलों का सही क्रम क्या है
*उ. साहेबगंज - पाकुर- दुमका- बोकारो
*2.झारखण्ड में निम्नलिखित में से किस स्थान पर लौह अयस्क का सबसे बड़ा एकल भंडार है
*उ. चिरिया
*3.ब्रिटिश सरकार ने किस वर्ष छोटानागपुर किराएदारी अधिनियम पेश किया
*उ. 1908 ई. में
*4.निम्नलिखित में कौन सी फसल झारखण्ड राज्य की महत्वपूर्ण निर्यात फसल है
*उ. पपीता
*5. झारखण्ड में पंचायती राज संस्था को मजबूत करने के लिए कौन सा अधिनियम बनाया गया
*उ. झारखण्ड पंचायत राज अधिनियम ,2001 - झारखण्ड में 23 अप्रैल 2001 को 'झारखण्ड पंचायती राज विधेयक ' को तत्कालीन राज्यपाल प्रभात कुमार द्वारा मंजूरी दिए जाने के बाद झारखण्ड पंचायती राज अधिनियम 2001 के रूप में सामने आया | इस अधिनियम के तहत राज्य में 'त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था' अपनायी गयी इसके तहत ग्राम स्तर पर ग्राम पंचायत, प्रखंड स्तर पर पंचायत समिति, और जिला स्तर पर जिला परिषद्' की व्यवस्था की गई |
*6. 1857 ई. में झारखण्ड में किस स्थान पर विद्रोह भड़का
*उ. हजारीबाग -- 30 जुलाई 1857 को हजारीबाग एवम रामगढ के सिपाहियों ने विद्रोह कर दिया, पर बाद में इसका मुख्य केंद्र रांची बना|
*7. झारखण्ड में निम्नलिखित नेताओं में से किन्होंने 1857 के विद्रोह में अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी
*उ. शेख भिखारी -- 1857 के विद्रोह में रांची के ठाकुर विश्वनाथ साहदेव, टिकैत उमराव सिंह, पांडेय गणपत राय, शेख भिखारी, हजारीबाग के जगत लाल सिंह, रामगढ बटालियन के जमादार माधव सिंह, डोरंडा बटालियन के जयमंगल पांडेय एवम नादिर अली, पोड़ाहाट (सिंहभूम) के राजा अर्जुन सिंह, विश्रामपुर के चेरो सरदार भवानी राय, पलामू के नीलाम्बर पीताम्बर सहित कई नेताओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई
*8. झारखण्ड में 'कार्तिक अमावस्या' के दौरान कौन सा त्योहार मनाया जाता है
*उ. बंदना
*9. झारखण्ड में सरकार द्वारा बालिकाओं को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए हाल ही में कौन - सी योजना शुरू की गई है |
*उ. सुकन्या समृद्धि योजना
*10. राज्य में रहने वाले विकलांग लोगों के लिए झारखण्ड सरकार द्वारा कौन सी पेंशन योजना शुरू की गई है |
*उ. स्वामी विवेकानंद निःशक्त स्वालंबन प्रोत्साहन योजना
*11. 2011 की जनगणना के अनुसार 2001 - 20011 के दशक के लिए झारखण्ड की पुरुष जनसंख्या की साक्षरता दर क्या है
*उ. 2011 की जनसंख्या के अनुसार झारखण्ड की कुल साक्षरता दर 66.41 प्रतिशत है, इनमे पुरुषों की साक्षरता दर 76.84 प्रतिशत तथा महिला साक्षरता दर 55.4 प्रतिशत है
*12. 2001-2011 के दशक के लिए झारखण्ड का लिंग अनुपात क्या है
*उ. 949 प्रति हजार पुरुषों पर

झारखण्ड आंदोलन

*1950 ई को जयपाल सिंह के नेतृत्व में 'झारखण्ड पार्टी' का जमशेदपुर में गठन हुआ |
*1956 ई में झारखण्ड पार्टी के द्धारा राज्य पुनर्गठन आयोग के पास एक वृहत झारखण्ड राज्य की निर्माण की मांग में एक स्मरण पत्र प्रस्तुत किया गया, मांग आयोग द्धारा अस्वीकृत कर दिया गया
*1958 ई में फाटल सिंह के नेतृत्व में खरवार वन आंदोलन हुआ
*1963 ई. सितंबर में झारखण्ड पार्टी का कांग्रेस में विलय हो गया
*1964 ई. में क्षेत्रीय योजना तथा विकास बोर्ड का गठन हुआ
*1967 ई. के दिसंबर में अखिल भारती झारखण्ड पार्टी का गठन हुआ
*1967 ई. को ही मध्यावधि चुनाव के पूर्व जस्टिन रिचर्ड द्धारा 'हुल झारखण्ड पार्टी' का गठन संथाल परगना में हुआ
*1968 ई को हूल झारखण्ड पार्टी का गठन हुआ
*1969 ई को 'अखिल भारतीय झारखण्ड पार्टी' का विभाजन -- बागुन सुम्ब्रई द्धारा मूल पार्टी पर कब्ज़ा एवम इन.ई.होरो द्धारा 'झारखण्ड पार्टी' का गठन हुआ
*1969-70 को शिबू सोरेन द्धारा सोनत संथाल समाज की स्थापना - नशाबंदी, साहूकारी तथा जमीन से बेदखली के खिलाफ आंदोलन
*1969 ई में कुर्मियों ने शिवजी समाज की स्थापना की
*1970 ई. में हूल झारखण्ड पार्टी का विभाजन - शिबू सोरेन के नेतृत्व में 'प्रोग्रेसिव हूल झारखण्ड पार्टी' का गठन
*1971 ई. को श्री ए. के. राय के द्धारा 'मार्क्सवादी समन्वय पार्टी' का गठन एवम पृथक झारखण्ड राज्य की मांग - बिहार सरकार द्धारा 'छोटानागपुर - संथाल परगना स्वशासी विकाश परिषद्' का गठन
*4 फरवरी 1973 को शिबू सोरेन एवम शिवाजी समाज के स्व. विनोद बिहारी महतो के नेतृत्व में धनबाद में 'झारखण्ड मुक्ति मोर्चा' का गठन हुआ
*22 जून 1986 को जमशेदपुर में 'ऑल झारखण्ड स्टूडेंट यूनियन' (आजसू) का गठन अध्यक्ष - प्रभाकर तिर्की तथा महासचिव - सूर्यसिंह बेसरा बने

*1990 में श्री बी.एस.लाली ने 'जैक' के गठन की अनुशंसा की
*1991 में 'झारखण्ड पीपुल्स पार्टी' का गठन हुआ
*17 अप्रैल 1995 ई. को 'जैक' विधेयक को राज्यपाल की मंजूरी मिली 9 जून को 'जैक' का गठन शिबू सोरेन अध्यक्ष एवम सूरज मंडल उपाध्यक्ष घोषित
*22 जुलाई 1997 ई. को बिहार विधान सभा द्धारा झारखण्ड राज्य गठन का संकल्प पारित
*1998 ई. में केंद्र की वाजपेयी सरकार ने इसी संकल्प के आधार पर बिहार राज्य पुनर्गठन विधेयक बिहार विधान सभा में स्वीकृति के लिए भेजा लेकिन विधेयक अपारित रहा
*25 अप्रैल 2000 ई. को कांग्रेस के दबाव में बिहार राज्य पुनर्गठन विधेयक बिहार विधान सभा से पारित हुआ
*02-08-2000 ई. को बिहार राज्य पुनर्गठन विधेयक 2000 लोक सभा से पारित
*11-08-2000 ई. को बिहार राज्य पुनर्गठन विधेयक2000 राज्य सभा में पारित
*28-08-2000 ई. को बिहार राज्य पुनर्गठन विधेयक 2000 राष्ट्रपति द्धारा हस्ताक्षरित
*15-11-2000 ई. को झारखण्ड देश का 28 वां राज्य घोषित

झारखण्ड जनगणना 2011

*सर्वाधिक जनसंख्या के अनुसार जिलों का क्रम -- १. रांची २. धनबाद ३. गिरिडीह
*न्यूनतन जनसंख्या के अनुसार जिलों का क्रम -- १. लोहरदग्गा २. खूंटी ३. सिमडेगा
*सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व के अनुसार जिलों का क्रम -- १. धनबाद २. साहेबगंज ३. बोकारो
*न्यूनतम जनसंख्या घनत्व के अनुसार जिलों का क्रम -- १.सिमडेगा २.गुमला ३. लातेहार
*सर्वाधिक क्षेत्रफल के अनुसार जिलों का क्रम -- १.पश्चिमी सिंहभूम २. गुमला ३.रांची
*न्यूनतम क्षेत्रफल के अनुसार जिलों का क्रम -- १.रामगढ २. लोहरदग्गा ३.कोडरमा
*सर्वाधिक लिंगानुपात के अनुसार जिलों का क्रम -- १.पश्चिम सिंहभूम २. खूंटी ३. सिमडेगा
*सर्वाधिक साक्षरता की दृष्टि से जिलों का क्रम -- १.रांची २.पूर्वी सिंहभूम ३. धनबाद
*सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति की दृष्टि से जिलों का क्रम -- १..पश्चिम सिंहभूम २.रांची ३.गुमला
*सर्वाधिक नगरीय जनसँख्या की दृष्टि से जिलों का क्रम प्रतिशत में -- १. धनबाद २. पूर्वी सिंहभूम ३.बोकारो

झारखण्ड जनरल नॉलेज

*जहांगीर के समय १६१६ ई में छोटानागपुर पर किसने आक्रमण किया था -- इब्राहिम खान
*मौलाना आजाद कब से कब तक छोटानागपुर में नजरबन्द रहे -- 1916 से 1919 तक
*अखिल भारतीय कांग्रेस का 53 वां अधिवेशन कहाँ हुआ था -- रामगढ में
*जय प्रकाश नारायण हजारीबाग केंद्रीय कारा से कब फरार हुए -- 9 नवम्बर 1942 को
*झारखण्ड में प्रथम गिरिजाघर का निर्माण कब हुआ -- 1845 ई में
*संथालों का वर्ष किस माह से शुरू होता है -- आषाढ़ से
*मुंडा लोगों का माघे पर्व कब मनाया जाता है -- पूस मास की पूर्णिमा के दिन
*मुंडा लोगों के किस त्यौहार को 'सरहुल' भी कहा जाता है -- बा परब
*हो लोग अपने देवताओं को क्या कहते है -- बोंगा
*झारखण्ड में प्रतिवर्ष लगने वाला सबसे लंबा मेला -- श्रावणी मेला देवघर
*झारखण्ड में सर्वाधिक जनसंख्या किस जनजाति की है -- संथाल
*झारखण्ड की दूसरी प्रमुख जनजाति कौन है -- ओरांव
*सोसा बोंगा लोक कथा का सम्बन्ध किस जनजाति से है -- मुंडा से
*झारखण्ड के किस मंदिर में 15 अगस्त औए 26 जनवरी को तिरंगा फहराया जाता है -- पहाड़ी मंदिर में
*एक ओरांव अपने माता पिता एवम पिता के भाइयों को क्या कहता है -- बा
*संथालों में कितने गोत्र होते हैं -- 12 (बारह)
*मुंडा जनजाति के लोग झारखण्ड के किस जिले में मुख्यतः पाए जाते हैं-- रांची जिले में
*झारखण्ड के किन जिलों के सभी विधान सभा क्षेत्र अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित है -- गुमला, लोहरदग्गा, सराईकेला, सिमडेगा, एवम पश्चिम सिंहभूम
*झारखण्ड का कौन सा लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है -- पलामू
*किस जाति का ईसाईकरण सर्वाधिक हुआ है -- खड़िया
*64 ई. तक सभी जनजातियों का राजा कौन था -- मदरा मुंडा
*झारखण्ड में किस दो जनजातियों की संख्या सबसे काम है -- बंजारा एवम बिरहोर
*जुबली पार्क कहाँ है -- जमशेदपुर में
*रांची पहाड़ी की ऊंचाई कितनी है -- २४२३ फ़ीट
*झारखण्ड के किस शहर से कर्क रेखा गुजरती है -- रांची
*कलुआ पहाड़ की चोटी को क्या कहते है -- आकाश लोचन
*शेर की पहली गणना कहाँ हुई थी -- बेतला अभ्यारण्य में
*झारखण्ड का पहला निर्मित राष्ट्रीय उद्यान कौन है -- बेतला पार्क
*खेरवार आंदोलन का नेतृत्व किसने किया -- भगीरथ मांझी ने
*ब्रिटिश पार्लियामेंट ने अधिकृत रूप से छोटानागपुर नाम कब दिया -1872 में |
*प्राचीन काल में छोटानागपुर का क्या नाम था -पुण्ड्र ,पौण्ड्रिक प्रदेश ,मुण्ड, खोखरा इत्यादि
*पूर्व मध्यकालीन संस्कृत साहित्य में इसे क्या कहा गया -कलिंद देश
*झारखंड का कौन -सा जिला किसी भी राज्य को नहीं छूती -लोहरदगा
*जैन साहित्य में 'लोहरदगा 'को क्या कहा गया है -लोहारगंज
*झारखंड का शाब्दिक अर्थ क्या है -वन -प्रदेश
*जमशेदपुर का पुराना नाम क्या था -साकची
*आईने अकबरी में लोहदगा का उल्लेख किस रूप में हुआ है -किस्मतें लोहरदगा
*गढ़वा किस भाषा का शब्द माना जाता है -मराठी भाषा का
*झारखंड में रामकृष्ण मिशन की पहली शाखा कहा खोली गई -जमशेदपुर में
*छोटानागपुर की रानी किसे कहा जाता है -नेतरहाट
*झारखंड के किस जिले को मध्यप्रदेश और उड़ीसा का प्रवेश द्वार कहते है -गुमला
*आय का मुख्य स्रोत -खनिज ,इस्पात ,लोहा, उद्योग एवं वन
*झारखंड की भाषा एवं बोलियाँ-हिंदी ,उर्दू ,मगही ,मुण्डा,उरांव ,हो ,खड़िया
*मुस्लिम काल में बंगाल की राजधानी --राजमहल
*झारखंड का एक मात्र जिला कौन सा है ,जहाँ गंगा नदी बहती है -साहेबगंज
*नागवंशी राजाओ की राजधानी कहा थी -पालकोट
*1834 में दक्षिणी पश्चिमी सीमान्त एजेंसी का मुख्यालय कहा बना -रांची
*1833 में कौन - कौन जिला बना -लोहरदगा ,हजारीबाग ,और मानभूम
*रांची जिला कब बना -1899 में
*संथाल परगना जिला कब बना था -1855 में
*संथाल परगना पहले किस कमिश्नरी के अंतर्गत जिला के रूप में रहा -भागलपुर
*हजारीबाग जेल का निर्माण कब हुआ -1856 में
*कुंडे रियासत झारखंड के किस जिले में है -हजारीबाग
*छोटानागपुर का प्रवेश द्वार किसे कहा जाता है -चतरा
*कोल्हान क्षेत्र में विल्किंसन रूल कब लागु किया गया - 1837 में
*अंग्रेज सरकार ने सेना के ईस्टर्न कमांड का मुख्यालय कलकत्ता से रांची स्थानांतरित कब किया -अप्रैल 1942 में
*1771 से 1780 तक छोटानागपुर कमिश्नरी का मुख्यालय कहाँ था -चतरा
*बिरसा मुण्डा के पिता का क्या नाम था -सुगना मुण्डा
*'मारंग गोमके 'के नाम से किसे जाना जाता है -जयपाल सिंह
*प्रथम नागवंशी राजा कौन थे -फणि मुकुट राय
*बिरसा पेशे से क्या थे -बुनकर
*बिरसा मुंडा ने किस वर्ष अपने आपको ईश्वर का दूत घोषित किया -1895 में
*बिरसा मुण्डा किसकी पूजा करने के लिए कहते थे -'सिंगबोंगा 'की
*धरती आबा (धरती का पिता )किसे कहाँ जाता था -बिरसा मुण्डा को
*बिरसा को सबसे पहले भगवान किसने कहाँ था -थानेदार मृत्युंजय नाथ लाल ने
*संथाल विद्रोह का नेतृत्व किसने किया था -सिद्धू और कान्हू ने
*टाना भगत आंदोलन के मुख्य सूत्रधार कौन थे -जतरा भगत
*तिलका मांझी का वास्तविक नाम क्या था -जबरा पहाड़िया
*जयपाल सिंह के गुरु कौन थे -कनोन कोस ग्रोभ
*1937 में जयपाल सिंह किस कॉलेज के प्राध्यापक थे -राजकुमार कॉलेज ,रायपुर
*जयपाल सिंह की पत्नी का क्या नाम था -जहाँ आरा
*जहाँ आरा को कौन सा विभाग मिला -परिवहन एवं विमानन विभाग में उपमंत्री
*ईसाई धर्म ग्रहण करते समय बिरसा का नाम क्या रखा गया -दाउद
*झारखंड आंदोलन का जन्मदाता किसे माना जाता है -जे० बर्थोमन
*जहांगीर के समय ,1616 ई० में छोटानागपुर पर आक्रमण किया था -इब्राहिम खां
*मौलाना आजाद कब से कब तक छोटानागपुर में नजर बंद रहे -1916 से 1919 तक ]
*अखिल भारतीय कांग्रेस का 53 वा अधिवेशन कहाँ हुआ था -रामगढ़ में
*जयप्रकाश नारायण हजारीबाग केंद्रीय कारा से फरार हुए थे -9 नवम्बर 1942 को
*झारखंड क्षेत्र में प्रथम गिरजा घर का निर्माण कब हुआ -1845 में
*संथालो का वर्ष किस माह से शुरू होता है -आषाढ़ से
*मुण्डा लोगो का माघे पर्व कब मनाया जाता है -पूस मास की पूर्णिमा के दिन
*मुण्डा लोगो के किस त्यौहार को 'सरहुल ' भी कहाँ जाता है -बा परब
*'हो 'लोग अपने देवताओ को क्या कहते है -बोंगा
*झारखंड (भारत में )प्रतिवर्ष लगने वाला सबसे लम्बा मेला -श्रावणी मेला ,देवघर
*झारखंड प्रदेश में सर्वाधिक किस जनजाति की संख्या है -संथाल
*झारखंड की दूसरी प्रमुख जनजाति कौन सी है -उरांव
*सोसा बोंगा लोक कथा का सम्बन्ध किस जनजाति से है -मुण्डा
*झारखंड के किस मंदिर में 15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराया जाता है -पहाड़ी मंदिर ,रांची
*एक उरांव अपने माता पिता एवं पिता के भाइयों को क्या कहता है - बा |
*संथालों में कितने गोत्र होते हैं - 12 (बारह)
*मुंडा जनजाति के लोग झारखंड के किस जिले में मुख्यतः पाए जाते हैं - रांची में |
*झारखंड के किस जिले के सभी विधान सभा क्षेत्र अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित है -गुमला ,लोहरदगा ,सरायकेला ,सिमडेगा ,एवं प० सिंह भूम
*झारखंड का कौन -सा लोक सभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है -पलामू
*किस जाती का ईसाई करण सर्वाधिक हुआ -खड़िया
*1964 ई० तक सभी जनजातियों का राजा कौन था-मदरा मुंडा
*झारखंड में किस दो जनजातियों की संख्या सबसे कम है-बंजारा एवं बिरहोर

Jharkhand Gk

*झारखण्ड का गठन एवं विधेयक - 15 नवंबर 2000 बिहार पुनर्गठन विधेयक 2000 बिहार का 46% भू-भाग
*झारखण्ड 21°58’10” उत्तरी अक्षांश से 25°19’15” उत्तरी अक्षांश तथा 83°19’50” पूर्वी देशांतर से 87°57’00” पूर्वी देशांतर के मध्य विस्तृत है।
*इस राज्य की लम्बाई (उत्तर से दक्षिण) 380 किमी. और चौड़ाई (पूर्व से पश्चिम) 463 किमी. है।
*राज्य का कुल क्षेत्रफल 79,714 वर्ग किमी. है, जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 2.42 प्रतिशत है।
*वर्तमान झारखण्ड राज्य में ज़िलों की संख्या -24
*झारखण्ड राज्य के प्रमण्डलों की संख्या - 5
*झारखण्ड राज्य में अनुमण्डलों की संख्या- 43
*झारखण्ड राज्य के प्रखण्डों की संख्या- 260
*भारतीय संघ में राज्य का स्थान - 28 वां
*राजकीय दिवस - 15 नवंबर
*राज्य की राजधानी - रांची
*राज्य की उपराजधानी - दुमका
*औद्योगिक राजधानी - जमशेदपुर
*उच्च न्यायलय - रांची
*राजकीय भाषा - हिंदी
*द्वितीय राजकीय भाषा - उर्दू
*अन्य भाषाएँ - मुंडारी, कुड़ुख, संथाली,हो,खोरठा,पंचपरगनिया,कुरमाली,नागपुरिया
*राजकीय चिन्ह - चार जे अक्षर
*राजकीय पशु- हाथी
*राजकीय पक्षी- कोयल
*राजकीय वृक्ष - साल
*राजकीय पुष्प- पलाश
*भौगोलिक अवस्थिति- भारत के उत्तर-पूर्वी भाग में
*गोलार्द्ध- उत्तरी गोलार्द्ध में
*राज्य का ज्यिमितिया आकार - चतुर्भुजाकार
*जलवायु कटिबन्ध - उष्ण कटिबन्ध
*जलवायु - मानसूनी
*राज्य से गुजरने वाली अक्षांश रेखा - 23.5 डिग्री उत्तरी अक्षांश (कर्क रेखा)
*प्रांत की सीमाएं एवं विस्तार - उत्तर में बिहार, दक्षिण में उड़ीसा, पूर्व में पश्चिम बंगाल, तथा पश्चिम में छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश
*झारखण्ड राज्य की सीमा को छुने वाले राज्य - बिहार,छत्तीसगढ़,बंगाल,उत्तर प्रदेश,उड़ीसा
*सबसे ज्यादा क्षेत्रफ़ल वाला जिला- पश्चिम सिंहभूम
*सबसे कम क्षेत्रफ़ल वाला जिला- रामगढ
*अधिसूचित प्रखंडो की संख्या- 132
*गाँव की संख्या- 32615
*पंचायतों की संख्या- 4423
*जिला परिषदों की संख्या-24
*जिला परिषदों के सदस्यों की संख्या- 445
*राज्य की कुल जनसंख्या - 32988134
*पुरुष जनसंख्या - 16930315
*महिला जनसंख्या- 16057819
*भारत की कुल जनसंख्या का प्रतिशत- 2 .72 प्रतिशत
*जनसंख्या की दृष्टि से देश में स्थान - 13 वां
*क्षेत्रफ़ल की दृष्टि से देश में स्थान- 16 वां
*जनसंख्या घनत्व की दृष्टि से देश में स्थान - 14 वां
*2001 - 2011 के दशक में जनसंख्या वृद्धि दर- 22.34 प्रतिशत
*सर्वाधिक जनसंख्या वाला जिला- रांची
*न्यूनतम जनसंख्या वाला जिला- लोहरदग्गा
*जनसंख्या घनत्व - 414 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी
*सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला जिला - धनबाद
*न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला जिला - सिमडेगा
*लिंगानुपात - 949 महिलायें प्रति हजार पुरुषों पर
*सर्वाधिक लिंगानुपात वाला जिला - पश्चिम सिंहभूम
*न्यूनतम लिंगानुपात वाला जिला - धनबाद
*साक्षारता दर - 66.40 प्रतिशत
*पुरुष साक्षारता दर - 76.80 प्रतिशत
*महिला साक्षारता दर - 55.40 प्रतिशत
*सवाधिक साक्षारता दर वाला जिला - रांची (77.13%)
*न्यूनतम साक्षारता दर वाला जिला - पाकुड़ (48.82%)
*अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या - 8645042 (26.20%)
*अनुसूचित जाति की जनसंख्या - 3985644 (12.10%)
*अनुसूचित जनजाति के कुल समुदाय - 32
*अनुसूचित जाति के कुल समुदाय - 22
*थानो की संख्या - 326
*वन क्षेत्र की स्थिति - 23473 वर्ग किमी
*कुल क्षेत्रफ़ल में वन का प्रतिशत - 29.95%
*सर्वाधिक वन क्षेत्रफ़ल वाला जिला (प्रतिशत में) - चतरा
*न्यूनतम वन क्षेत्रफ़ल वाला जिला (प्रतिशत में) - धनबाद
*प्रति व्यक्ति वन का क्षेत्रफ़ल - 0 .079 हेक्टेयर
*सामान्य सघन वन क्षेत्र - 9667 वर्ग किमी
*अति सघन वन क्षेत्र - 2587 वर्ग किमी
*कुल खुला वन क्षेत्र - 11219 वर्ग किमी
*कुल कृषि योग्य भूमि - 38 लाख हेक्टेयर
*शुद्ध बोया गया क्षेत्र - 18.07 लाख हेक्टेयर
*कुल सिंचित क्षेत्र - 1.95 लाख हेक्टेयर
*झारखण्ड की मुख्य फसल - धान
*विद्युत उत्तपादन क्षमता - 2590 मेगावाट
*राज्य का सर्वोच्च शिखर - पारसनाथ (1365 मी.)
*राज्य का द्वितीय सर्वोच्च शिखर - सरुअत पहाड़ी (गुलगुल पाट)
*राज्य की विधायिका - एक सदनीय (विधान सभा)
*विधान सभा के सदस्यों की संख्या - 82 (81 +1)
*विधान सभा में आरक्षण की स्थिति ST-28 SC-9 GENERAL-44
*लोक सभा सदस्यों की संख्या - 14
*लोक सभा में आरक्षण की स्थिति ST-5 SC-1 GENERAL-8
*राज्य सभा के सदस्यों की संख्या - 06
*सबसे बड़ा संसदीय क्षेत्र - पश्चिम सिंहभूम (सुरक्षित ST)
*SC के लिए सुरक्षित एक मात्र संसदीय क्षेत्र - पलामू
*सबसे छोटा संसदीय क्षेत्र - चतरा
*प्रति व्यक्ति आय - 57144 (2013-14 के चालु मूल्य पर)
*जन्म दर -35.7 प्रति हजार
*मृत्यु दर - 13.12 प्रति हजार
*शिशु मृत्यु दर - 92 प्रति हजार
*राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लम्बाई - 1859.16 किमी
* राजकीय राजमार्गों की कुल लम्बाई - 6886.40 किमी
*सर्वाधिक क्षेत्रफ़ल वाला जिला - पश्चिम सिहं भूम
*न्यूनतम क्षेत्रफ़ल वाला जिला - रामगढ़
*प्रथम राज्यपाल - श्री प्रभात कुमार
*प्रथम मुख्य मंत्री - श्री बाबूलाल मरांडी
*प्रथम विधान सभा अध्यक्ष - श्री इन्दर सिंह नामधारी
*प्रथम मुख्य न्यायधीश - श्री विनोद कुमार गुप्ता
*प्रथम मुख्य सचिव - श्री वी.एस.दुबे
*प्रथम महिला राज्यपाल - द्रौपदी मुर्मू

झारखंड सामान्य ज्ञान


*ब्रिटिश पार्लियामेंट ने अधिकृत रूप से छोटानागपुर नाम कब दिया --- 1872 में
*प्राचीन काल में छोटानागपुर का क्या नाम था -- पुण्ड्र, पुंडरीक प्रदेश, मुण्ड, खोखरा
*पूर्व मध्य कालीन संस्कृत साहित्य में इसे क्या कहा गया है ---- कलिंद देश
*झारखण्ड का कौन सा जिला किसी भी राज्य को नहीं छूता है -- लोहरदग्गा
*जैन साहित्य में लोहरदग्गा को क्या कहा गया है -- लोहारगंज
*झारखण्ड शब्द का शाब्दिक अर्थ क्या है -- वन-प्रदेश
*जमशेदपुर का पुराण नाम क्या है -- साकची
*आईने अकबरी में लोहरदग्गा का उल्लेख किस रूप में हुआ है -- किस्मते लोहदग्गा
*गढ़वा किस भाषा का शब्द माना जाता है -- मराठी भाषा का
*झारखण्ड में रामकृष्ण मिशन की पहली शाखा कहाँ खोली गयी -- जमशेदपुर में
*छोटानागपुर की रानी किसे कहा जाता है -- नेतरहाट
*झारखण्ड के किस जिले को मध्य प्रदेश और उड़ीसा का प्रवेश द्धार कहते हैं -- गुमला
*झारखण्ड के आय का मुख्य श्रोत -- खनिज, लोहा इस्पात उद्योग एवम वन
*झारखण्ड की भाषाएँ एवम बोलियां -- हिंदी, उर्दू, मगही, मुंडा, उरांव, हो, खड़िया
*मुस्लिम काल में बंगाल की राजधांनी -- राजमहल
*झारखण्ड का एक मात्र जिला जहां गंगा नदी बहती है -- साहेबगंज
*नागवंशी राजाओं की राजधानी कहाँ थी -- पालकोट
*1834 में दछिणी पशिचमी सीमांत एजेंसी का मुख्यालय कहाँ बना -- रांची
*1833 में कौन कौन जिला बना -- लोहरदग्गा, हजारीबाग, और मानभूम
*रांची जिला कब बना -- 1899 में
*संथाल परगना जिला कब बना था --1855 में
*हजारीबाग जेल का निर्माण कब हुआ -- 1856 में
*कुंडे रियासत झारखण्ड के किस जिले में है -- हजारीबाग
*छोटानागपुर का प्रवेश द्धार किसे कहा जाता है -- चतरा
*कोल्हान क्षेत्र में विल्किंसन रूल कब लागु किया गया -- 1837 में
*अंग्रेज सरकार ने सेना के ईस्टर्न कमांड का मुख्यालय कलकता से रांची स्थानांतरित कब किया -- अप्रैल 1942 में
*1771 से 1780 तक छोटानागपुर कमिश्नरी का मुख्यालय कहाँ था -- चतरा
*बिरसा मुंडा के पिता का नाम क्या था -- सुगना मुंडा
*'मरांग गोमके ' के नाम से किसे जाना जाता है -- जयपाल सिंह
*प्रथम नागवंशी राजा कौन थे -- फणी मुकुट राय
*बिरसा पेशे से क्या थे -- बुनकर
*बिरसा मुंडा ने किस वर्ष अपने आपको ईश्वर का दूत घोषित किया -- 1895 में
*बिरसा मुंडा ने किसकी पूजा करने को कहा -- 'सिंगबोंगा' की
*धरती आबा (धरती के पिता) किसे कहा जाता था -- बिरसा मुंडा को
*बिरसा मुंडा को सबसे पहले भगवान् किसने कहा -- थानेदार मृत्युंजय नाथ लाल ने
*थाल विद्रोह का नेतृत्व किसने किया था -- सिधु और कान्हू ने
*टाना भगत आंदोलन के मुख्य सूत्रधार कौन थे -- जतरा भगत
*तिलक मांझी का वास्तविक नाम क्या था -- जबरा पहड़िया
*जयपाल सिंह के गुरु कौन थे -- कानन कोस ग्रोव
*1937 में जयपाल सिंह किस कॉलेज के प्राध्यापक थे -- राजकुमार कॉलेज रायपुर
*जयपाल सिंह की पत्नी का क्या नाम था -- जहाँ आरा
*जहाँ आरा को कौन सा विभाग मिला था -- परिवहन एवं विमानन विभाग में उपमंत्री
*ईशाई धर्म ग्रहण करते समय बिरसा का क्या नाम रखा गया था -- दाऊद
*झारखण्ड आंदोलन का जन्मदाता किसे मन जाता है -- जे बर्थोमान

झारखण्ड के महापुरुष

★जयपाल सिंह मुंडा (3 जनवरी 1903 – 20 मार्च 1970)[1] झारखंड आंदोलन के एक प्रमुख नेता थे। जयपाल एक जाने माने हॉकी खिलाडी भी थे । उनकी कप्तानी में भारत ने 1928 एमस्टर्डम में आयोजित ओलम्पिक खेलो में भारतीय हॉकी टीम ने पहला स्वर्ण पदक प्राप्त किया।[2] इन्होंने झारखंड पार्टी की स्थापना की थी जिसका बाद में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में विलय हो गया था।

★अल्बर्ट एक्का :-लॉस नायक अल्बर्ट एक्क गुमला के निवासी थे 1971 के भारत -पाकिस्तान युद्ध में दुश्मनो के दाँत खट्टे करते हुए शहीद हो गए उन्हें मरणोपरांत सर्वोच्च सैनिक सम्मान परमवीर चक्र प्रदान किया गया |

★जतरा भगत :-ये छोटानागपुर में 1913 -14 में 'टाना भगत आंदोलन के सूत्रधार थे |

★भगीरथ मांझी :-'खेरवार आंदोलन 'का नेतृत्व भगीरथ मांझी ने किया था |

★सिद्धू और कान्हू :-'संथाल विद्रोह 'का नेतृत्व सिद्धू और कान्हू ने किया था |

★बिरसा मुंडा (बिरसा भगवान ):-बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवम्बर ,1875 ई० को उलीहातू गांव में हुआ था 3 मार्च को उन्हें गिरफ्तार किया गया और 9 जून ,1900 को रांची जेल में इनकी मृत्यु हो गई इन्हे ''धरती आबा ''के नाम से जाना जाता है |

★बुद्धू भगत :-सिलगाई गांव में जन्मे रांची के सपूत ने 1828 -32 के लरका विद्रोह एवं कॉल विद्रोह में अपने नेतृत्व का परिचय दिया था 3 फरवरी 1832 को ''कैप्टन इकपे ''ने उन्हें मार डाला |

★बाबू राम नारायण सिंह :-बाबू राम नारायण सिंह का जन्म चतरा जिले के हंटरगंज प्रखंड के अंतर्गत तेतरिया ग्राम में 19 दिसंबर ,1884 को हुआ था इन्हे "छोटानागपुर केशरी" के उपाधि से (डॉ० राजेंद्र प्रसाद )ने अलंकृत किया था |

★डॉ० जयपाल सिंह मुंडा :-रांची में जन्मे हॉकी के प्रसिद्ध खिलाडी व आदिवासी नेता डॉ० जयपाल सिंह को 1928 में एमस्टर्डम में आयोजित ओलम्पिक खेलो में भारतीय हॉकी टीम का कप्तान नियुक्त किया गया था ,जिसमे भारत ने स्वर्ण पदक प्राप्त किया था

★मौलवी अहसन :-महान स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने झारखण्ड में पर्शियन शिक्षा की नींव रखी उर्दू पब्लिक लाइब्रेरी ,मदरसा इस्लामिया एवं रहमानिया मुसाफिरखाना की स्थापना एवं रख -रखाव में मौलाना आजाद की पूरी मदद की मौलाना आजाद के बड़े प्रशंसक एवं समर्थक थे इन्हे झारखण्ड का गाँधी कहा जाए तो गलत नहीं होगा

★पाण्डेय गणपत राय :-इनका जन्म 17 जनवरी 1809 ई० को लोहरदग्गा के भैरो गांव में हुआ था ये छोटानागपुर महाराज के दीवान थे | रांची में उन्होंने ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव के साथ क्रांतिकारियों का साथ दिया 21 अप्रैल ,1958 को उन्हें फांसी दे दी गई

★ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव:-इनका जन्म 12 अगस्त 1817 ई० को बड़कागढ़ की राजधानी सतरंजी में हुआ था 1857 के सिपाही विद्रोह के समय इन्होने अपने दीवान पाण्डेय गणपत राय के साथ अंग्रेजो के विरुद्ध लड़ाई लड़ी थी अंग्रेजो ने उन्हें गिरफ्तार कर 16 अप्रैल 1858 को फांसी दे दिया |

★शेख भिखारी :-ये उमरांव टिकैत सिंह के दीवान थे इनका जन्म ओरमांझी प्रखंड के खुदिया लोटवा गांव में 1819 में हुआ था 1857 के सिपाही विद्रोह के समय टिकैत उमरांव सिंह के साथ चुटूपालू घाटी में अंग्रेजो के विरुद्ध मोर्चा संभाला था 7 जनवरी 1858 को इनको फांसी दे दी गई |

★सीमोन उरांव :-बेड़ो ,रांची के 60 वर्षीय सीमोन उरांव ,51 गाँवों के पह्ड़ा राजा थे इन्होने अनपढ़ होते हुए भी गाव में आठवीं कक्षा तक की पढाई शुरू किया

झारखण्ड का भौगोलिक परिचय

* झारखण्ड भारत के 28 वे राज्य के रूप में 15 नवंबर 2000 को अस्तित्व मे आया

*इस राज्य का भौगोलिक विस्तार 21°58’10” उत्तरी अक्षांश से 25°19’15” उत्तरी अक्षांश तथा 83°19’50” पूर्वी देशांतर से 87°57’00” पूर्वी देशांतर के मध्य है

* कर्क रेखा इसकी राजधानी रांची से होकर गुजरती है

* राज्य की लम्बाई उतर से दक्षिण 380 किलोमीटर एवं चौड़ाई पूर्व से पश्चिम 463 किलोमीटर है प्रदेश का कुल क्षेत्रफल 79714 वर्ग किलोमीटर यह प्रान्त अपने खनिज सम्पदा के लिए विश्व विख्यात है

*झारखण्ड का निर्माण आर्कियन युग की प्राचीनतम चट्टानों से हुआ है जिसमे ग्रेनाइट निस की प्रधानता है

*इसका उत्तर पश्चिमी भाग अपेक्षाकृत उंचा है जिसे पाट प्रदेश कहते है

*झारखण्ड की सबसे ऊंची चोटी पारसनाथ है जिसकी ऊंचाई 1365 मीटर है

*खनिज संसाधनों की बहुलता के कारण इसे भारत के रुर प्रदेश कहते है

*यहाँ की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार कृषि है

*झारखण्ड के भूगर्भिक संरचना :-झारखण्ड में निम्न क्रम की चट्टाने पाई जाती है 1 आर्कियन 2 विंधयन 3 कार्बोनीफेरस 4 पर्मियन - ट्रियासिक 5 गोंडवाना -धरवाड़ 6 सिनोजोइक 7 नविन निक्षेप
आर्कियन क्रम की चट्टानों में जीवाश्म नहीं पाया जाता है धरवाड़ क्रम धात्विक खनिजों के लिए प्रसिद्ध है विंध्यन क्रम की चट्टाने चुना पत्थर के लिए प्रसिद्ध है गोंडवान क्रम की चट्टाने कोयले के लिए प्रसिद्ध है

झारखण्ड की भौतिक विभाजन

*1 पाट क्षेत्र 2 रांची एवं हज़ारीबाग का पठार 3 बाह्रा पठार 4 चाईबासा का मैदान 5 राजमहल की पहाड़ियां

झारखण्ड की जलवायु

*झारखण्ड उष्णकटिबंधीय जलवायु क्षेत्र में आता है

*यहाँ की जलवायु मॉनसूनी है और यहाँ लगभग 140 से.मी. वर्षा होती है

*यहाँ उष्णकटिबंधीय मानसून पतझड़ वन पाए जाते है

*कर्क रेखा इसके बीचो -बीच से गुजरती है

*यहाँ तीन प्रकार के मौसम पाई जाती है 1 गर्मी [मार्च-जून ],2 वर्षा ऋतु [मध्य जून -अक्टूबर ] 3 शीत ऋतु [नवंबर - फरवरी ]

*गर्मी यहाँ औसत तापमान 25डिग्री सेंटीग्रेट है

* पलामू सबसे गर्म और नेतरहाट सबसे ठंढा प्रदेश है

*यहाँ अधिकतर वर्षा दक्षिणी -पश्चिमी मौनसून से होती है यहाँ की औसत वर्षा 140 सेमी है

*यहाँ अरब सागर की मॉनसूनी शाखा से भी वर्षा होती है

* दिसम्बर-जनवरी में बंगाल की खाड़ी से उठने वाली नॉर्वेस्टर तुफान से भी थोड़ी वर्षा होती है जिसे काल वैशाखी या आम्र वर्षा कहते है

झारखण्ड की मिट्टी

मिट्टी / क्षेत्र / विशेषताएं

*१.बलथर मिट्टी /राजमहल श्रेणी के निकट /पीलापन लिए हुए ,लाल रंग ,अम्लीय ,रेत व कंकड़ युक्त्त कम उर्वर

*२.लाल मिट्टी/ छोटानागपुर पठार रांची , पूर्वी तथा पश्चिमी सिंहभूम, गिरिडीह / लाल रंग , लौहयुक्त ,नाइट्रोजन ,फॉस्फोरस और ह्यूमस की कमी व कंकड़युक्त्त

*३.काली मिट्टी / राजमहल श्रेणी [संथाल - परगना ] / लावायुक्त्त ,लोहा ,चूना ,मैग्नेशियम अल्युमिनियम युक्त्त ,उर्वर इत्यादि

*४.लैटेराइट मिट्टी / रांची ,पलामू ,एवं संथाल परगना / लाल रंग ,कंकड़ीली ,अम्लीय ,अल्युमिनियम ,आयरन ऑक्साइड ,मैंगनीज़ ऑक्साइडयुक्त्त

*नॉट -1 .मिट्टी के अन्य वर्गीकरण के आधार पर इसकी भूमि को रूगड़ी टांड ,ललमटिया टांड और डिहारी टांड में भी बाँटा गया है
* दोनभूमि धान की खेती के लिए सबसे उपयुक्त माना गया है
* 2 .झारखण्ड की मुख्य मिट्टी लाल मिट्टी है
*3 .पिली मिट्टी पलामू में मिलती है
* 4 .जलोढ़ मिट्टी साहेबगंज एवं पाकुड़ में मिलती है

झारखंड में प्रथम

☯सर्वाधिक ऊंचा जलप्रपात -बुढ़ाघाघ (450 फ़ीट)

☯राज्य का सर्वाधिक वनाच्छादित जिला -प० सिंहभूम (9907 वर्ग किमी )

☯प्रथम तांबा कारखाना - घाटशिला

☯सर्वाधिक प्राकृतिक वनस्पति वाला जिला (आरक्षित) -हजारीबाग

☯सर्वाधिक जनजाति वाला प्रमंडल --संथाल परगना

☯टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (TISCO)की स्थापना -1907 ई० में

☯पलामू में प्रोजेक्ट टाइगर की स्थापना -1972 में

☯सबसे अधिक जलप्रपात वाला जिला -रांची

☯सबसे ठंडा स्थल (तापमान सबसे काम )-नेतरहाट

☯सबसे गर्म जल वाला स्रोत -सूरजकुण्ड (हजारीबाग )

☯सर्वाधिक वर्षा -नेतरहाट में (1800 मिमी )

☯पठारी क्षेत्रों में खनन करके निर्मित पहला रेलमार्ग -जमशेदपुर से हावड़ा

☯पहाड़ों की मलिका नाम से प्रसिद्ध -नेतरहाट (छोटानागपुर )

☯स्टील नगरी -टाटानगर

☯सर्वप्रथम सीमेंट उद्योग की स्थापना -जपला में

☯सबसे उच्चे स्थान पर बसा विद्यालय -नेतरहाट विद्यालय

☯सर्वाधिक तीर्थयात्री -देवघर

☯खनन उच्च शिक्षा केंद्र -इण्डिया स्कूल ऑफ़ माइन्स ,धनबाद

☯उड्डयन तथा ग्लाइडिंग क्लब -जमशेदपुर

☯सबसे बड़ी नदी घाटी परियोजना -दामोदर नदी घाटी परियोजना

☯सबसे बड़ा वन -सारंडा

☯सबसे बड़ा हवाई अड्डा -बिरसा मुंडा हवाई अड्डा (रांची )

☯सबसे बड़ा अजायबघर -रांची

☯सबसे बड़ा चिड़ियाघर -बोकारो चिड़ियाघर

☯प्रथम रेलमार्ग -राजमहल से मुगलसराय तक

☯प्रथम बिजली गृह -तिलैया (कोडरमा)

☯प्रथम हिंदी दैनिक-राष्ट्रीय भाषा

☯प्रथम हिंदी साप्ताहिक -आर्यावर्त

☯प्रथम लोकायुक्त -लक्षमण उरांव

☯प्रथम हिंदी मासिक -घरबंधु

☯प्रथम अंग्रेजी दैनिक -डेली प्रेस

☯प्रथम फिल्म -आक्रांत

☯प्रथम नागपुरी फिल्म -सोना कर नागपुर

☯प्रथम संथाली फिल्म -मुख्य बाहा

☯झारखण्ड आंदोलन के सूत्र धार -जे० वार्थोमन

☯झारखण्ड विधान सभा के प्रथम अध्यक्ष -श्री बागुन सुम्ब्रई

☯झारखण्ड विधान सभा के प्रथम प्रोटेम स्पीकर -विशेश्वर खां

☯झारखंड विधान सभा के प्रथम विपक्ष का नेता -श्री स्टीफन मरांडी

☯झारखण्ड राज्य के प्रथम महाधिवक्ता -श्री मंगलमय बनर्जी

☯झारखंड के प्रथम पुलिस महानिदेशक -श्री शिवाजी महान कैरे

☯झारखंड के प्रथम मनोनीत विधान सभा सदस्य -जोसेफ पेचेली गालस्टीन

☯झारखंड के प्रथम परमवीरचक्र प्राप्त करने वाला व्यक्ति -अल्बर्ट एक्का

☯झारखंड के प्रथम अशोक चक्र प्राप्त करने वाला व्यक्ति -रणधीर वर्मा

☯झारखंड के प्रथम अंतर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाडी -सावित्री पूर्ती

☯झारखंड के प्रथम महिला अंतर्राष्ट्रीय रेफरी -आश्रिता लकड़ा

☯झारखंड के प्रथम परखनली शिशु -आशीष सिंह (रांची )

☯झारखंड के प्रथम विश्वविद्यालय -रांची विश्वविद्यालय ,रांची

☯झारखंड का प्रथम कृषि विश्वविद्यालय -बिरसा कृषि विश्वविद्यालय ,रांची

☯प्रथम चिकित्सा विश्वविद्यालय -राजेंद्र चिकित्सा महाविद्यालय ,रांची

☯झारखंड का प्रथम महाविद्यालय -संत कोलम्बा महाविद्यालय ,हजारीबाग

☯झारखंड का प्रथम आयुर्वेद कॉलेज -राजकीय आयुर्वेद कॉलेज ,लोहरदगा

☯झारखंड का प्रथम ग्लॉइडिंग इंस्ट्रक्टर -राकेश रजक

झारखंड :भारत में सर्व प्रथम /सबसे बड़ा

★भारत का प्रथम लौह -इस्पात कारखाना -जमशेदपुर

★भारत का सबसे बड़ा विस्फोटक कारखाना -गोमिया (बोकारो )

★भारत का प्रथम /सबसे बड़ा खाद कारखाना -सिंदरी (धनबाद )

★भारत का सबसे बड़ा लौह -इस्पात कारखाना - (बोकारो)झारखंड

★भारत का तांबा गलाने का सबसे बड़ा कारखाना -घाटशिला

★भारत का सबसे बड़ा कॉल वाशरी -बोकारो

★भारत का सबसे बड़ा मेला -देवघर

★भारत का सबसे अधिक गर्म जल का जलकुंड -सूरजकुण्ड

★ओलम्पिक में प्रथम भाग लेने वाला हॉकी कप्तान -जयपाल सिंह

★भारत रत्न प्राप्त करने वाला प्रथम उद्योग पति -जमशेदजी टाटा

NEXT

Widget is loading comments...

NEXT

Free Web Hosting